Breadcrumb

Adhunik Bharat Ka Itihas

Adhunik Bharat Ka Itihas

Author : V.D. Mahajan

(0 Reviews)
  • ISBN : 9788121906418
  • Pages : 870
  • Binding : Paperback
  • Language : Hindi
  • Imprint : S. Chand Publishing
  • © year : 1993
  • Size : 6.75''X9.5''

Price : 560.00 448.00

इस पुस्तक में आध्ुनिक भारत के इतिहास (1707 से वर्तमान समय तक) का एक विस्तृत विवरण दिया गया है। इसकी भाषा-शैली अत्यन्त सरल और सुबोध है जिससे विद्यार्थी विषय-वस्तु को आसानी से आत्मसात कर सकें। इस पुस्तक में मुगल साम्राज्य के पतन तथा विघटन के कारणों का उल्लेख करते हुए भारत में यूरोपीय जातियों के आगमन की समीक्षा की गयी है तथा ब्रिटिश सामाज्यवाद के विभिन्न चरणों पर प्रकाश डाला गया है। इसमें भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन के महत्त्वपूर्ण पहलुओं पर भी चर्चा की गयी है। यह पुस्तक आध्ुनिक भारत के इतिहास के स्नातक तथा परास्नातक कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए उपयोगी है। इनके अलावा, विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सम्मिलित हो रहे अभ्यर्थी भी इससे लाभान्वित होंगे।

• चार नये अध्यायों का समावेश-अध्याय 1, 2, 41 एवं 42
• विषय के गहन अध्ययन के लिए प्रत्येक अध्याय के अन्त में ';सजेस्टेड रीडिंग्स' दी गयी है

1. मुगल साम्राज्य का पतन तथा विधटन, 2. स्वतन्त्रा राज्यों का उदय, 3. अठारहवीं शताब्दी में समाज और संस्कृति, 4. भारत के यूरापीय जातियों का आगमन, 5. अंग्रेजी ईस्ट इण्डिया कम्पनी की स्थापना तथा विकास, 6. दक्षिण में प्रभुत्व के लिए तथा ्रफांसीसियाँ का संधर्ष, 7. बंगाल में अंग्रेज (1757-72), 8. वारेन हेस्ंिटग्ज (1772-85), 9. लार्ड कार्नवालिस तथा सर जान शोर, 10. लार्ड वैल्जली (1798-1805), 11. लार्ड हेस्ंिटग्ज तथा एमहस्र्ट, 12. पेशवाओं का उत्थान और पतन, 13. बेटिंक से आकलैंड तक, 14. एलनबरा तथा हार्डिग, 15. महाराजा रणजीतसिंह तथा उसके उत्तराधिकारी, 16. लार्ड डलहौजी (1848-56), 17. गदर, 18. कैनिंग से लिटन तक, 19. रिपन से एलगिन तक (1880-98), 20. लार्ड कर्जन (1899-1905), 21. भारत लार्ड मिण्टो से आगे (1905 से आगे), 22. संवधनिक विकास (1773-1950), 23. केन्द्रीय तथा प्रान्तीय विधन सभाओं का विकास, 24. राष्ट्रवादी आन्दोलन का विकास, 25. भारत में मुस्लिम साम्प्रदायिकता का विकास, 26. आध्ुनिक भारत के नेता, 27. वित्त का विकेन्द्रीकरण, 28. भारत में स्थानीय स्वराज्य का विकास, 29. भारत में समाचार-पत्रों का इतिहास, 30. शिक्षा का इतिहास, 31. धार्मिक तथा सामाजिक सुधार आन्दोलन, 32. आंग्ल-अफगान सम्बन्ध, 33. भारतीय रियासतें, 34. भारत को ब्रिटिश शासन की देन, 35. अंग्रेजी शासन का भारत पर आर्थिक प्रभाव, 36. भारत में वामपंथी आन्दोलन, 37. आधुनिक भारत का पुनर्जागरण, 38. कृषक संघर्ष, 39. उदारवादी राजनीति का युग, 40. महात्मा गांधी और भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन, 41. ब्रिटिश शासन का राजनीतिक, सांस्कृतिक तथा सामाजिक प्रभाव, 42. भूमि-राजस्व व्यवस्था में परिवर्तन

Be the first one to review

Submit Your Review

Your email address will not be published.

Your rating for this book :

Sign Up for Newsletter